top of page

वेलकम वीक मनाओ नवविवाहितों !

कितना कठिन होता है अपने घर से दूर रहना पर बेटियों को घर छोड़ना ही होता है।जब किसी की बेटी तुम्हारी पत्नी बन कर आए तो उसे बहुत नाज़ुक पुष्प की भांति सम्हाल कर रखो।ये ही वो समय है जब तुम अपने सुखी विवाहित जीवन की आधारशिला रख सकते हो । स्त्री तो प्यार का अजस्र स्रोत होती है पर उस स्रोत तक पहुंचने के लिए तन को नहीं उसके मन को पढ़ो।

Want to read more?

Subscribe to www.shikharias.in to keep reading this exclusive post.

Subscribe Now
117 views0 comments

Recent Posts

See All

Kriya Dhyan बिल्कुल नया कोर्स "क्रिया ध्यान" स्मृति बढ़ाने के लिए सब्जेक्ट्स पर कंसन्ट्रेट यानी ध्यान केंद्रित करने के लिए मन की उद्विग्नता अशांति दूर करने के लिए आलस्य टालमटोल procrastination दूर करने

bottom of page