top of page

समाचार 4.6.21

करेंट अफेयर्स एक पंक्ति को नए रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है, इसमें अंतर्राष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस और कोरोना वायरस आदि को सम्मलित किया गया है. • जिस राज्य सरकार ने हाल ही में घोषणा की कि ऐसे अनाथ बच्चों के नाम 5 लाख रुपए सावधि जमा किए जाएंगे जिनके माता-पिता में से कम से कम किसी एक की कोविड-19 की वजह से मौत हुई है- महाराष्ट्र • केंद्रीय मंत्रिमंडल ने हाल ही में भारत और जिस देश के बीच सतत शहरी विकास के क्षेत्र में सहयोग समझौते को मंजूरी दी है- जापान • हाल ही में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज में लड़कियों के लिए जितने प्रतिशत आरक्षण की घोषणा की-33 प्रतिशत • अंतर्राष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस (International Child Defense Day) जिस दिन मनाया जाता है-1 जून



• विश्व साइकिल दिवस (World Bicycle Day) जिस दिन मनाया जाता है-3 जून • भारत ने जिस अभियान के लिए विश्व बैंक के साथ 200 मिलियन डॉलर के ऋण के लिए समझौता किया है- राष्ट्रीय पोषण अभियान • भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने हाल ही में जिस भारतीय तटरक्षक जहाज को संचालित किया, जो 105 मीटर अपतटीय गश्ती जहाजों की श्रृंखला में तीसरा है- सजग • केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने टिकाऊ शहरी विकास के क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत और जिस देश के बीच समझौता ज्ञापन को हाल ही में मंजूरी प्रदान कर दी- मालदीव

🛑प्रतिदिन के करेंट अफेयर्स से सम्बंधित जानकारी को संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत किया गया है. इसमें आज राष्ट्रीय पोषण अभियान और कोविड वैक्‍सीन से संबंधित जानकारी संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत किया गया है. भारत ने राष्ट्रीय पोषण अभियान के लिए विश्व बैंक के साथ 200 मिलियन डॉलर के ऋण के लिए समझौता किया है. राष्ट्रीय पोषण अभियान का लक्ष्य बौनापन, अल्पपोषण, रक्ताल्पता (छोटे बच्चों, महिलाओं एवं किशोरियों में) को कम करना तथा प्रति वर्ष अल्पवजनी बच्चों में 2 प्रतिशत की कमी लाना है. राष्ट्रीय पोषण अभियान के माध्यम से कुपोषण से निपटने के लिए विभिन्न मंत्रालयों में चल रहे विविध कार्यक्रमों एवं योजनाओं में समन्वय स्थापित करने के साथ ही उनके लिए लक्ष्य निर्धारण में मदद मिलेगी. केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने टिकाऊ शहरी विकास के क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत और मालदीव के बीच समझौता ज्ञापन को हाल ही में मंजूरी प्रदान कर दी. समझौता ज्ञापन के अनुरूप सहयोग के लिए कार्यक्रमों की कार्यनीति बनाने तथा उन्हें कार्यान्वित करने के लिए एक संयुक्त कार्यसमूह (जेडब्ल्यूजी) का गठन किया जाएगा.



संयुक्त कार्यसमूह की बैठक साल में एक बार बारी-बारी से मालदीव तथा भारत में होगी. यह समझौता ज्ञापन दोनों देशो के बीच टिकाऊ शहरी विकास के क्षेत्र में मजबूत, गहरे तथा दीर्घकालिक द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ावा देगा. महाराष्ट्र सरकार ने हाल ही में घोषणा की कि ऐसे अनाथ बच्चों के नाम 5 लाख रुपए सावधि जमा किए जाएंगे जिनके माता-पिता में से कम से कम किसी एक की कोविड-19 की वजह से मौत हुई है. इन बच्चों को 1125 रुपए का मासिक भत्ता भी मिलेगा. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में यह निर्णय किया गया. यह सहायता केंद्र सरकार द्वारा घोषित सहायता के अतिरिक्त होगी. बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज में लड़कियों के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण की घोषणा की. गौरतलब है कि राज्य सरकार के अनुसार इस कदम से इंजीनियरिंग और मेडिकल क्षेत्र में लड़कियों की संख्या में वृद्धि होगी और उन्हें इस क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा. विश्व भर में प्रत्येक वर्ष 1 जून को अंतर्राष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस मनाया जाता है. रूस में अंतर्राष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस पहली बार वर्ष 1949 में मनाया गया था. इसका निर्णय मॉस्को में अंतर्राष्ट्रीय महिला लोकतांत्रिक संघ की एक विशेष बैठक में लिया गया था. 01 जून 1950 को विश्व के 51 देशों में अंतर्राष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस पहली बार मनाया गया था. इसका उद्देश्य बच्चों के अधिकारों की रक्षा करने की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित करना है. 🛑 टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 04 जून 2021 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से ईरान का सबसे बड़ा युद्धपोत और कोरोना वायरस आदि शामिल हैं. यह घटना ईरानी बंदरगाह जास्क के पास हुई है. आग लगने की वजह का अभी पता नहीं चला है. ईरान का अपने परमाणु कार्यक्रम को लेकर अमेरिका और इजराइल से लंबे समय से विवाद चल रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अब तक यह साफ नहीं हुआ है कि आग किस वजह से लगी और इतनी भयानक कैसे हुई कि तमाम सुरक्षा होने के बावजूद इसे डूबने से बचाया नहीं जा सका. खर्ग जहाज का डूबना ईरान के लिए ताजा नौसैन्य हादसा है. साल 2020 में ईरानी सेना के अभ्यास के दौरान जास्क बंदरगाह के समीप एक मिसाइल गलती से एक नौसैन्य जहाज से टकरा गयी थी जिससे 19 नाविकों की मौत हो गयी थी और 15 घायल हो गए थे. साल 2018 में ईरानी नौसेना का एक युद्धक जहाज कैस्पियन सागर में डूब गया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर दलहन और तिलहन के उत्पादन को बढ़ाकर देश को आत्मनिर्भर बनाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है. इसी सिलसिले में केंद्र सरकार का बीज मिनी किट कार्यक्रम दलहन व तिलहन की नई किस्मों के अच्छी गुणवत्ता वाले बीजों की आपूर्ति किया जा रहा है.



बीज ‘मिनी-किट’ कार्यक्रम की शुरुआत कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर द्वारा किसानों को दलहन और तिलहन की ऊंची पैदावार वाली बीजों के वितरण के साथ हुई. तोमर ने कहा कि केंद्र राज्यों के सहयोग से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत दलहन और तिलहन का उत्पादन एवं उत्पादकता बढ़ाने हेतु विभिन्न गतिविधियों कार्यान्वयन करता रहा है. सरकारी बयान के मुताबिक, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने सतत शहरी विकास के लिए भारत के आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय तथा जापान के भूमि, आधारभूत ढांचा, परिवहन एवं पर्यटन मंत्रालय के बीच सहयोग ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए जाने को अनुमति दी. यह सहयोग ज्ञापन शहरी विकास के माध्यम से 2007 में किए गए समझौता-ज्ञापन का स्थान लेगा. इसमें शहरी नियोजन, स्मार्ट सिटी विकास, सस्ते आवास (किराये के मकान सहित), शहरी बाढ़ प्रबंधन, सीवर और अपशिष्ट जल प्रबंधन, शहरी यातायात (बौद्धिक यातायात प्रबंधन प्रणाली, यातायात की सुविधा से लैस विकास और बहुपयोगी एकीकरण सहित) तथा आपदा का सामना करने योग्य विकास समेत सतत शहरी विकास से जुड़े विभिन्न पहलु शामिल हैं. सदस्य राज्यों को मास मीडिया के क्षेत्र में नए नवाचारों और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने का अवसर प्रदान करेगा. मास मीडिया के क्षेत्र में इन देशों के बीच समान और पारस्परिक रूप से लाभप्रद सहयोग को बढ़ावा देना. शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के सदस्य राज्यों में आठ देश शामिल हैं: भारत, चीन, किर्गिज़ गणराज्य, कज़ाकिस्तान, पाकिस्तान, ताजिकिस्तान, रूस और उज़्बेकिस्तान. शंघाई सहयोग संगठन (SCO) एक स्थायी अंतर्राष्ट्रीय अंतर-सरकारी संगठन है. यह जून, 2001 में शंघाई (चीन) में ताजिकिस्तान गणराज्य, रूसी संघ, उज्बेकिस्तान गणराज्य, चीन जनवादी गणराज्य, किर्गिज़ गणराज्य और कजाकिस्तान गणराज्य द्वारा बनाया गया था. भारत 08-09 जून, 2017 को आयोजित SCO अस्ताना शिखर सम्मेलन के दौरान शंघाई सहयोग संगठन (SCO) में शामिल हुआ था. 🛑 रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचा सेंसेक्स सुंदर सेतुरामन | मुंबई Jun 04, 2021 कोविड-19 संक्रमण के मामलों में लगातार कमी और टीकाकरण के प्रयास में तेजी के बीच बंबई स्टॉक एक्सचेंज के बेंचमार्क सेंसेक्स ने आज छलांग लगाकर अब तक का सबसे ऊंचा मुकाम हासिल कर लिया। सेंसेक्स 383 अंक चढ़कर 52,232 अंक पर बंद हुआ, जो 15 फरवरी के उसके रिकॉर्ड स्तर से भी अधिक है। निफ्टी भी 114 अंक बढ़कर 15,690 के नए रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ। देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के महज 1.34 लाख नए मामले सामने आए और संक्रमण की दर लगातार दसवें दिन 10 फीसदी से नीचे रही। लगातार सात दिन से संक्रमण के नए मामले 2 लाख से कम ही हैं। इस बीच सरकार ने हैदराबाद की बायोलॉजिकल ई के साथ कोविड टीके की 30 करोड़ खुराक की आपूर्ति के लिए करार किया है। कंपनी अभी इस टीके का क्लीनिकल परीक्षण कर रही है। देश में कोविशील्ड और कोवैक्सीन के साथ ही स्पूतनिक वी टीका भी उपलब्ध हो गया है। केंद्र सरकार टीके के लिए फाइजर और मॉडर्ना से भी बात कर रही है। विश्लेषकों का कहना है कि संक्रमण के मामले कम होने के साथ ही कंपनियों के बेहतर नतीजे आने और बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में अर्थव्यवस्था में सकारात्मक वृद्घि दिखने से निवेशकों का मनोबल बढ़ा है। मार्सेलस इन्वेस्टमेंट मैनेजर्स के संस्थापक एवं मुख्य कार्याधिकारी सौरभ मुखर्जी ने कहा, 'संक्रमण के मामले घटने से हौसला बढ़ा है। मार्च तिमाही में कंपनियों के नतीजे भी अच्छे रहे हैं और बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में अर्थव्यवस्था में वृद्घि दर्ज की गई। लोगों को इस कठिन समय से उबारने के लिए टीकाकरण जरूरी है। हर कोई जानता है कि मई चुनौतियों भरा रहा मगर अब अर्थव्यवस्था में सुधार पर ध्यान देने की जरूरत है।' निवेशक उम्मीद कर रहे हैं कि भारतीय रिजर्व बैंक शुक्रवार की बैठक में कोरोना की दूसरी लहर से देश को उबारने के लिए पर्याप्त तरलता उपलब्ध कराने का अपना संकल्प जारी रखेगा। रेलिगेयर ब्रोकिंग में उपाध्यक्ष-शोध अजित मिश्र ने कहा, 'सबकी नजरें शुक्रवार को होने वाली मौद्रिक नीति समिति की बैठक के नतीजों पर है। उम्मीद है कि रिजर्व बैंक दरों में कोई बदलाव नहीं करेगा। लेकिन वृद्घि और मुद्रास्फीति पर आरबीआई के बयान पर भी निवेशकों की नजर रहेगी। उस दिन बाजार में उतार-चढ़ाव दिख सकता है।' सूचकांक ऐसे समय में नई ऊंचाई पर पहुंचा है जब कोरोना की दूसरी लहर और पाबंदियों की वजह से देश में विनिर्माण गतिविधियों में गिरावट आई है। आईएचएस मार्किट इंडिया विनिर्माण खरीद प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) मई में 50.8 पर रहा जो पिछले 10 महीने का सबसे निचला स्तर है। मई में सेवा क्षेत्र का पीएमआई भी 46.4 पर रहा, जो अप्रैल में 54 पर था। आज वैश्विक बाजारों में मिला-जुला रुख देखा गया और अर्थव्यवस्था में सुधार की उम्मीद में प्रमुख बाजार रिकॉर्ड ऊंचाई के करीब बंद हुए। बीएसई पर 2,141 शेयर लाभ में और 1,039 नुकसान पर बंद हुए। करीब 400 शेयर 52 हफ्ते के उच्च स्तर छू आए और 502 ऊपरी सर्किट पर बंद हुए। बीएसई पर सभी सेक्टर सूचकांक बढ़त पर बंद हुए। कंज्यूमर ड्यूरेबल्स सूचकांक में सबसे ज्यादा 4.4 फीसदी और रियल्टी में 3.9 फीसदी की तेजी दर्ज की गई। कीवर्ड रिकॉर्ड, सेंसेक्स, संक्रमण, टीकाकरण, बंबई स्टॉक एक्सचेंज, निफ्टी, «वापस ताजा खबर

  • 5जी के इस्तेमाल के लिए धीमी किंतु ठोस शुरुआत करनी होगी

  • टीकों के जरिये जीतनी होगी कोरोना की जंग

  • जमीनी हकीकत

  • नकदी की व्यवस्था देर से उठा अच्छा कदम

  • केरल में 1 जून को आ सकता है मॉनसून

बाजार

  • एमएफ के लिए बढ़ाई गई विदेशी निवेश की सीमा

  • बॉन्ड बाजार को जी-सैप पर घोषणा का इंतजार

  • रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचा सेंसेक्स

  • विदेशी निवेशकों को मिलेगा ज्यादा समय

  • समस्याओं के बावजूद विश्लेषकों को भा रहे एफएमसीजी शेयर

कंपनियां

  • लॉकडाउन से पहले शुरू हो गई थी श्रम लागत में कटौती

  • सीईओ के वेतन-भत्तों में भारी बढ़ोतरी

  • एस्सार के लिए बढ़ी बोली

  • नोवेलिस की होगी अलेरिस

  • मेड इन इंडिया कारों का अमेरिका में जलवा

अर्थव्यवस्था और नीति

  • मई में सेवा क्षेत्र में आई गिरावट

  • निर्यात में तेजी जारी, व्यापार घाटा कम

  • पीएलआई में बदलाव का सुझाव

  • स्टेट बैंक के अर्थशास्त्रियों ने घटाया वृद्धि दर का अनुमान

  • ज्यादा ग्राहक आय बढऩे की गारंटी नहीं

🛑डिजिटल भुगतान कंपनी पेटीएम का शेयर ग्रे बाजार में 80 प्रतिशत से ज्यादा चढ़ गया। गैर-सूचीबद्घ कंपनियों के शेयरों में कारोबार करने वाले एक कारोबारी का कहना है कि यह तेजी इस उम्मीद से आई है कि जब इस साल के अंत में कंपनी सूचीबद्घ हो जाएगी तो उसके बाद शेयर कीमत की वैल्यू मौजूदा स्तरों के मुकाबले कम से कम 40 प्रतिशत ज्यादा होगी।


गैर-सूचीबद्घ कंपनी के शेयरों की खरीदारी और बिक्री को सुगम बनाने वाली फर्म अनलिस्टेड जोन के निदेशक दिनेश गुप्ता ने कहा, 'यह शेयर एक महीने पहले के 12,500 से चढ़कर 22,000 रुपये पर पहुंच गया है। कारोबारी यह उम्मीद कर रहे हैं आईपीओ में शेयर की वैल्यू 35,000 रुपये पर होगी। कंपनी वैल्यू में कमी लाने के लिए बोनस इश्यू भी लाएगी।'


ऐंट गु्रप समर्थित कंपनी ने आईपीओ के जरिये करीब 22,000 करोड़ रुपये जुटाने के लिए अपने बोर्ड से सैद्घांतिक मंजूरी हासिल की है। यह पहली पेशकश कैलेंडर वर्ष के अंत से पहले बाजार में आने की संभावना है। यदि पेटीएम का आईपीओ बाजार में आता है तो यह देश में सबसे बड़ी पेशकश होगी। रिपोर्टों के अनुसार, पेटीएम अपने आईपीओ में 2 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का मूल्यांकन हासिल होने की संभावना देख रही है।


बाजार कारोबारियों का कहना है कि मौजूदा ग्रे बाजार भाव से करीब 1.5 लाख करोड़ रुपये के मूल्यांकन का संकेत मिल रहा है।


नवंबर 2019 में कंपनी ने 1.1 लाख करोड़ रुपये के मूल्यांकन पर 1 अरब डॉलर की रकम जुटाई थी। पेटीएम देश में सबसे बड़ी डिजिटल भुगतान कंपनियों में से एक के तौर पर पहचान बना चुकी है। यूपीआई पेमेंट के संदर्भ में करीब 12 प्रतिशत की बाजार भागीदारी के साथ उसका तीसरा स्थान है। मार्च में, उसने 1.4 अरब से ज्यादा के लेनदेन दर्ज किए, जो फरवरी के 1.2 अरब लेनदेन के मुकाबले ज्यादा हैं। कंपनी ने कहा कि यह वृद्घि ऑफलाइन और वित्तीय सेवाओं की मदद से हासिल हुई थी। कंपनी के अनुसार, वह मासिक आधार पर लगातार 15 प्रतिशत की वृद्घि दर्ज कर रही है।


फिनटेक कंपनी ने बाद में बाजार में अपनी पहुंच और राजस्व बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया है। कंपनी ने हाल में कई नए उत्पाद और सेवाओं को पेश किया है। उसने निवेश उपयोगकर्ताओं के लिए भी सेवाएं पेश की हैं।


कंपनी का लक्ष्य वित्त वर्ष 2021-2022 में पेटीएम मनी के लिए हर साल 1 करोड़ उपयोगकर्ता और 7.5 करोड़ सालाना लेनदेन दर्ज करना है, जिनमें ज्यादातर उपयोगकर्ता छोटे शहरों और कस्बों से होंगे। पेटीएम मनी उसका शेयर एवं म्युचुअल फंड निवेश प्लेटफॉर्म है। पेटीएम के बारे में बन्र्सटीन द्वारा जारी एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी पेमेंट व्यवसाय से आगे बढ़कर एक संपूर्ण फिनटेक प्लेटफॉर्म में तब्दील होने के लिए तैयार है। पेटीएम अपने पूरक ईकॉमर्स/ई-टिकटिंग प्लेटफॉर्मों को पेमेंट (वॉलेट/यूपीआई), मर्चेंट एक्वीरिंग, क्रेडिट सेविंग, परिसंपत्ति प्रबंधन, बीमा और ब्रोकिंग सेवाएं मुहैया कराती है। रिपोर्ट में कहा गया है, 'पेटीएम का 35 करोड़ से ज्यादा का आधार है, 5 करोड़ सक्रिय उपयोगकर्ता आधार, और 2 करोड़ से ज्यादा व्यवसायी आधार है। इन उपयोगकर्ताओं में से करीब 10 करोड़ केवाईसी वाले हैं।


43 views0 comments

Recent Posts

See All
bottom of page