top of page

26.4.21 समाचार सार

• भारत ने तकनीक आधारित स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए जिस देश के साथ गठजोड़ किया है- सिंगापुर • जिस देश ने भारत से आने वाले सभी राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय विमानों पर प्रतिबन्ध लगा दिया है- यूएई • विश्व मलेरिया दिवस जिस दिन मनाया जाता है-25 अप्रैल • वह देश जिसके पर्यटन मंत्रालय ने हाल ही में अपने बसे हुए द्वीपों पर भारतीय पर्यटकों के रुकने पर रोक लगा दी है- मालदीव



• भारत और जिस देश की नौसेनाओं ने हाल ही में अरब सागर में तीन दिवसीय युद्धाभ्यास की शुरुआत की- फ्रांस • हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के जिस दिग्गज का कोरोना की चपेट में आने से 70 वर्ष की उम्र में निधन हो गया- राजन मिश्रा • पाकिस्तान के जिस क्रिकेटर ने टी-20 क्रिकेट में सबसे तेज 2000 रन बनाने के मामले में विराट कोहली का रिकॉर्ड तोड़ दिया है- बाबर आजम • विश्व बौद्धिक सम्पदा दिवस जिस दिन मनाया जाता है-26 अप्रैल


1. भारत-स्वीडन जलवायु पहल में अमेरिका के शामिल होने का PM मोदी ने किया स्वागत

• प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने भारत-स्वीडन जलवायु पहल(India-Sweden climate initiative) में अमेरिका के शामिल होने का स्वागत किया है। पीएम मोदी ने इसके लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन को शुक्रिया कहा है। उन्होंने कहा कि अमेरिका भारत-स्वीडन जलवायु पहल लीडरशिप ग्रुप फॉर इंडस्ट्री ट्रांज़िशन में शामिल हो चुका है। पीएम मोदी ने साथ ही कहा कि यह हमें पेरिस समझौते के लक्ष्यों को पूरा करने, प्रतिस्पर्धा को मजबूत करने और नई स्थायी नौकरियां बनाने में मदद करेगा।

• प्रधानमंत्री कार्यालय(पीएमओ) की ओर से एक ट्वीट में लिखा गया है- 'स्वागत है POTUS,उद्योग संक्रमण, लीडआइटी के लिए नेतृत्व समूह में शामिल होने के लिए! यह भारतीय-स्वीडिश जलवायु पहल भारी उद्योग संक्रमण का नेतृत्व करती है। यह हमें पेरिस समझौते के लक्ष्यों को पूरा करने, प्रतिस्पर्धा को मजबूत करने और नई स्थायी नौकरियां बनाने में मदद करेगा।'

• गौरतलब है कि बाइडेन के लिए जलवायु परिवर्तन एक महत्वपूर्ण विषय रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति पद का कार्यभार संभालने के बाद उन्होंने 20 जनवरी को पेरिस जलवायु समझौते में अमेरिका के वापस लौटने की घोषणा की थी।

जलवायु परिवर्तन पर बोले पीएम मोदी


• प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए ठोस कदम उठाने की जरूरत पर जोर दिया। मोदी अमेरिका की तरफ से आयोजित डिजिटल जलवायु शिखर सम्मेलन में '2030 की ओर हमारी सामूहिक दौड़' विषय पर बोल रहे थे। अपने संबोधन की शुरुआत में उन्होंने जलवायु शिखर सम्मेलन के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन को धन्यवाद भी कहा।

• इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जलवायु संकट से निपटने के लिए हमें तेज गति से, बड़े पैमाने पर और वैश्विक संभावना के साथ ठोस कदम उठाने की जरूरत है। उन्होंने कहा, 'अपनी विकास चुनौतियों के बावजूद स्वच्छ ऊर्जा, ऊर्जा प्रभाविता और जैव विविधता को लेकर हमने कई साहसिक कदम उठाए हैं।

• प्रधानमंत्री मोदी ने वैश्विक महामारी कोरोना का भी उल्लेख किया और कहा कि मानवता वैश्विक महामारी से जूझ रही है और यह कार्यक्रम इस मौके पर हमें याद दिलाता है कि जलवायु परिवर्तन की गंभीर चुनौतियां अभी खत्म नहीं हुई हैं।


2. भारत-फ्रांस की नौसेनाएं आज से अरब सागर में करेंगी 3 दिन युद्धाभ्यास

• भारत और फ्रांस की नौसेनाएं रविवार से अरब सागर में तीन दिवसीय युद्धाभ्यास शुरू करेंगी और इस दौरान उन्नत हवाई रक्षा एवं पनडुब्बी रोधी अभ्यासों जैसे जटिल नौसैन्य अभियान चलाए जाएंगे। अधिकारियों ने बताया कि ‘वरुण’ अभ्यास के 19वें संस्करण में दोनों नौसेनाओं के बीच समन्वय एवं मिलकर अभियान चलाने की स्तर का प्रदर्शन होगा।

• अधिकारियों ने बताया कि भारतीय नौसेना गाइडेड मिसाइल भेदक विध्वंसक कोलकाता, निर्देशित मिसाइल फ्रिगेट, तरकश एवं तलवार, बेड़ा सहायक पोत दीपक, कलवरी श्रेणी की एक पनडुब्बी और लंबी दूरी के पी-8 आई समुद्री गश्ती विमान का एक बेड़ा तैनात करेगी। राफेल एम. लड़ाकू विमानों के साथ विमान वाहक चार्ल्स डी. गाउले, ई2सी हॉकेये विमान और हेलीकॉप्टर काएमैन एम. और दाउफिन फ्रांसीसी नौसेना का प्रतिनिधित्व करेंगे।

• फ्रांसीसी नौसेना हवाई रक्षा विध्वंसक शेवेलियर पॉल, फ्रिगेट प्रोवेंस और पोत वार को भी तैनात करेगी। पश्चिमी बेड़े के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग रियर एडमिरल अजय कोचर भारतीय पक्ष और कमांडर टास्क फोर्स 473 रियर एडमिरल मार्क औसेदात फ्रांसीसी पक्ष का नेतृत्व करेंगे।


3. गगनयान मिशन के पहले इसरो लांच करेगा एक खास उपग्रह, अंतरिक्ष यात्रियों के लिए करेगा ये बड़ा काम

• ISRO launch a communication satellite : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) गगनयान मिशन शुरू होने के बाद उससे संपर्क बरकरार रखने में मदद के लिए एक संचार उपग्रह (डाटा रिले सेटेलाइट) लांच करेगा।

• गगनयान अभियान के अंतिम चरण में पहुंचने से पहले यह उपग्रह लांच किया जाएगा जो अंतरिक्ष यात्रियों को लोअर अर्थ ऑíबट (एलईओ) में भेजेगा। इस अभियान का मानव रहित पहला चरण दिसंबर में शुरू होगा। सूत्रों ने कहा कि हम अपना उपग्रह भेजने की योजना बना रहे हैं, जो एक संचार उपग्रह के तौर पर काम करेगा।'

उपग्रहों की जानकारियों को ग्राउंड स्टेशनों तक पहुंचाने में होगा मददगार

• उन्होंने कहा कि 800 करोड़ रुपये की इस परियोजना को मंजूरी दे दी गई है और इस पर काम जारी है। दरअसल, कक्षा में स्थित उपग्रह पृथ्वी पर स्थित ग्राउंड स्टेशनों पर तब तक सूचनाएं नहीं पहुंचा सकता जब तक कि ग्राउंड स्टेशन उसकी स्पष्ट पहुंच में न हों।

• डाटा रिले सेटेलाइट उपग्रहों की जानकारियों को ग्राउंड स्टेशनों तक पहुंचाने में मदद करता है। बेहद क्षमतावान मानव अंतरिक्ष मिशन कार्यक्रम वाली अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के पास भी अपना डाटा रिले सेटेलाइट है। उसका यह सेटेलाइट पृथ्वी पर अतिरिक्त ग्राउंड स्टेशनों का निर्माण किए बिना 24 घंटे सभी सेटेलाइटों की वैश्विक कवरेज उपलब्ध कराता है।


Source of the News (With Regards):- compile by Dr Sanjan,Dainik Jagran(Rashtriya Sanskaran),Dainik Bhaskar(Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara(Rashtriya Sanskaran) Hindustan dainik(Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times(Hindi& English)


45 views0 comments

Recent Posts

See All
bottom of page