top of page

30.4.21 समाचार

टॉप हिंदी करेंट अफ़ेयर्स, 30 अप्रैल, 2021 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से एग्जिट पोल्स का परिचय, एग्जिट पोल्स की सटीकता, प्रधानमंत्री मोदी की कैबिनेट मीटिंग और चीन के रोबोट के बारे में महत्त्वपूर्ण जानकारी दी जा रही है. जागरण जोश से साभार

प्रधानमंत्री मोदी ने आज 30 अप्रैल, 2021 को सुबह 11 बजे कैबिनेट मंत्रियों की बैठक की अध्यक्षता की. यह बैठक देश में COVID-19 मामलों में एक खतरनाक उछाल के मद्देनजर आयोजित की गई. इस बैठक में केंद्रीय मंत्रियों के अलावा कुछ शीर्ष सरकारी अधिकारियों ने भी भाग लिया. यह उच्च-स्तरीय बैठक COVID-19 महामारी की दूसरी खतरनाक लहर और देश में चल रहे टीकाकरण अभियान पर केंद्रित रही. भारत में कोविड - 19 से बचाव के लिए टीकाकरण को 01 मई से और ज्यादा बढ़ाया जाएगा क्योंकि 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोग अब यह टीका लगवाने के लिए पात्र होंगे. एक्जिट पोल पोस्ट-वोट पोल भी कहलाते हैं, जिनके बारे में मतदाताओं द्वारा वोट डालने के बाद, अनुमान लगाया जाता है. एक जनमत सर्वेक्षण में मतदाता से पूछा जाता है कि वे किसके लिए मतदान करने के बारे में विचार कर रहे हैं जबकि, एक्जिट पोल्स में मतदान करने के बाद ही मतदाताओं से पूछा जाता है कि, उन्होंने वास्तव में किस पार्टी या नेता के लिए मतदान किया है. निजी फर्मों और मीडिया संगठनों जैसेकि, आज का चाणक्य, ABP-C वोटर, न्यूज़ 18, इंडिया टुडे -एक्सिस, टाइम्स नाउ - CNX, न्यूज़ X-नेता, रिपब्लिक - जन की बात, रिपब्लिक -C वोटर, ABP-CSDS और चिंतामणि द्वारा ये एग्जिट पोल्स करवाए जाते हैं.



एग्जिट पोल्स में इस्तेमाल की जाने वाली जानकारी या आंकड़े, मतदाता का मत दर्ज होने के बाद प्राप्त किये जाते हैं. मतदान केंद्र में अपना मतदान कर चुके मतदाता के बाहर निकलने के ठीक बाद, इन एग्जिट पोल्स के लिए डाटा एकत्रित किया जाता है. इसलिए, इन एग्जिट पोल्स की सटीकता हमेशा अनिश्चितता का विषय बनी रहती है. ये एग्जिट पोल देश में होने वाले चुनावों के परिणामों की भविष्यवाणी करने के लिए मतदाताओं की मनोदशा और बुनियादी कदम के बारे में एक मोटा विचार-आधार प्रदान करते हैं. कई बार एग्जिट पोल्स में दी गई जानकारी बहुत सटीक रही है और कई बार ऐसा भी हुआ है जब, अपनी भविष्यवाणियों को लेकर एग्जिट पोल्स पूरी तरह से गलत साबित हुए हैं. चीन से एक अंतरिक्ष-खनन स्टार्ट-अप ने 27 अप्रैल, 2021 को पृथ्वी की निचली कक्षा में एक रोबोट प्रोटोटाइप लॉन्च किया है, जो एक बड़े नेट/ जाल के साथ अन्य अंतरिक्ष यानों द्वारा छोड़े गए मलबे या कचरे को हटा सकता है. इस NEO-01 को चीन के लॉन्ग मार्च 6 रॉकेट पर अन्य उपग्रहों के साथ लॉन्च किया गया था. यह छोटे आकाशीय पिंडों का निरीक्षण करने के लिए भी अंतरिक्ष के दूरस्थ स्थानों पर पहुंच जाएगा. शेन्ज़ेन स्थित ओरिजिन स्पेस द्वारा विकसित किया गया यह 30 किलो का रोबोट भविष्य की तकनीकों का मार्ग प्रशस्त करेगा जो क्षुद्रग्रहों पर खनन करने में सक्षम होंगी.

45 views0 comments

Recent Posts

See All
bottom of page