top of page

5.5.21 समाचार

जागरण से साभार

• अंतरराष्ट्रीय अग्निशमन दिवस (International Firefighters' Day) जिस दिन मनाया जाता है-4 मई • जिस राज्य सरकार की नयी गाइडलाइन के मुताबिक चिकित्सा सेवा के लिए भी लोगों को पास लेना अनिवार्य कर दिया है- उत्तर प्रदेश • वह देश जिसने हाल ही में भारत को P-8I पैट्रोल विमान की बिक्री को मंजूरी दी है- अमेरिका • विश्व हास्य दिवस (World Laughter Day) जिस दिन मनाया जाता है- मई के पहले रविवार



• हाल ही में जिस राज्य सरकार ने मिट्टी के खिलौनों को जीआई टैग देने की घोषणा की है- तमिलनाडु • जम्मू कश्मीर के जिस पूर्व राज्यपाल का हाल ही में निधन हो गया है- जगमोहन • भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के नए डिप्टी गवर्नर के रूप में जिसने पदभार संभाल लिया है- टी. रवि शंकर • हाल ही में जिसने पुर्तगाली ग्रैंड प्रिक्स जीतकर अपने करियर की 97वीं जीत दर्ज की है- लुईस हैमिल्टन


विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 30 अप्रैल, 2021 को, मॉडर्ना कोरोना वायरस वैक्सीन को आपातकालीन उपयोग प्राधिकार प्रदान किया है. इस वैश्विक निकाय ने महामारी के खिलाफ लड़ाई में अपने शस्त्रागार में एक और शॉट जोड़ते हुए, आपातकालीन उपयोग के लिए इस वैक्सीन को मंजूर और सूचीबद्ध किया है. मॉर्डन वैक्सीन की खुराक एस्ट्राज़ेनेका-एसके बायो, जैन्सेन, फाइज़र-बायोएनटेक, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की खुराक सहित विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की आपातकालीन उपयोग टीकों की सूची में शामिल हो गई है. इसके साथ ही, WHO से आपातकालीन उपयोग प्राधिकार की मान्यता प्राप्त करने के लिए मॉडर्ना वैक्सीन (mRNA 1273) पांचवा टीका बन गया है. यह मॉडर्ना वैक्सीन अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना, बायोमेडिकल एडवांस्ड रिसर्च एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी और यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इन्फेक्शियस डिजीजेस द्वारा विकसित की गई है. The WHO has issued Emergency Use Listing (EUL) for our COVID-19 vaccine to prevent COVID-19 in individuals 18 years of age and older.

• विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञों ने 18 वर्ष से अधिक उम्र के रोगियों के लिए इस वैक्सीन का उपयोग करने की सिफारिश की है. • WHO के अनुमान के अनुसार, यह दवा mRNA आधारित है और इसमें 94.1% तक प्रभावकारिता है. • इस आधुनिक वैक्सीन को -25oC और -15oC के बीच के तापमान पर संग्रहीत/ स्टोर किया जा सकता है, लेकिन इस वैक्सीन को 30 दिनों तक 2 डिग्री सेल्सियस और 8 डिग्री सेल्सियस के बीच के तापमान पर भी संग्रहीत किया जा सकता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन की आपातकालीन उपयोग सूची के अलावा, COVID-19 वैक्सीन मॉडर्ना के COVAX का एक हिस्सा बनने के लिए पूर्व शर्त थी. COVAX कम आय वाले देशों को कोरोना वायरस के लिए वैक्सीन की खुराकें वितरित करने का एक वैश्विक कार्यक्रम है. यह कार्यक्रम विभिन्न देशों को कोरोना वायरस वैक्सीन की व्यवस्था और आयात के लिए अपनी स्वयं की विनियामक स्वीकृति में तेजी लाने की अनुमति देता है. मॉडर्ना वैक्सीन को दिसंबर, 2020 में संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा आपातकालीन उपयोग प्राधिकार दिया गया था. यूरोपीय संघ ने भी जनवरी, 2021 में अमेरिका के बाद शीघ्र ही इस वैक्सीन को अपनी मंजूरी दे दी थी. वैश्‍विक स्‍वास्‍थ्‍य निकाय द्वारा भी अब इस वैक्सीन को प्राधिकार दिया गया है क्‍योंकि चीन से फैलने के एक वर्ष के भीतर ही इस महामारी पर अंकुश लगाने के लिए वैश्‍विक समुदाय अपने COVID टीकाकरण को बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है. WHO से चीन के सिनोवैक और सिनोफ़ार्म वैक्सीन के लिए भी इसी तरह की मंजूरी आने वाले कुछ दिनों और हफ्तों में मिलने की उम्मीद है.

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने कहा कि टी रवि शंकर ने सोमवार को आरबीआई के नए डिप्टी गवर्नर के तौर पर कार्यभार संभाल लिया. टी रविशंकर को आरबीआई का डिप्टी गवर्नर बनाया गया है. वे केंद्रीय बैंक की अनुषंगी कंपनी इंडियन फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी एंड एलाइड सर्विसेज के चेयरमैन थे. उनका कार्यकाल तीन साल का होगा. रवि शंकर इससे पहले आरबीआई के कार्यकारी निदेशक थे. तीन अन्य डिप्टी गवर्नर माइकल डी पात्रा, मुकेश कुमार जैन और राजेश्वर राव है. डिप्टी गवर्नर पद पर शंकर की नियुक्ति के साथ आरबीआई ने डिप्टी गवर्नरों के पोर्टफोलियो में फेरबदल किया है. RBI ने इसके साथ ही चारों डिप्टी गवर्नर के बीच विभागों बंटवारा कर दिया. The Appointments Committee of the Cabinet has approved the appointment of T Rabi Sankar, Executive Director, Reserve Bank of India to the post of Deputy Governor, Reserve Bank of India for a period of three years, says an official letter. सेवा विस्तार के बार सेवानिवृत्त



रवि शंकर आरबीआई के चार डिप्टी गवर्न स्तर के अधिकारियों में एक होंगे. बीपी कानूनगो के दो अपैल को सेवानिवृत्त होने के बाद से डिप्टी गवर्नर का चौथा पद खाली था. कानूनगो एक साल सेवा विस्तार के बार सेवानिवृत्त हुए. मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने दी मंजूरी केंद्रीय मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने हाल ही में रविशंकर की नियुक्ति के प्रस्ताव को मंजूरी दी. वे कानूनगो के विभाग की जिम्मेदारी संभाल सकते हैं जो फिनटेक, सूचना प्रौद्योगिकी, भुगतान प्रणाली और लोखिम निगरानी के प्रभागों की जिम्मेदारी संभाल रहे थे. टी रवि शंकर के बारे में • रवि शंकर सितंबर 1990 में आरबीआई में अनुसंधान अधिकारी के रूप में नियुक्त किए गए थे. उन्होंने बीएचयू से विज्ञान एवं सांख्यिकी में स्नात्कोत्तर स्तर की पढ़ाई की. • वे इंस्टिट्यूट आफ इकोनामिक ग्रोथ से विकास योजना का डिप्लोमा पाठ्यक्रम भी किए हुए हैं. वे पिछले साल इंडियन फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी एंड एलाइड सर्विसेज के चेयरमैन बनाए गए थे. • इससे पहले वे अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) और बांग्लादेश के केंद्रीय बैंक के साथ भी भारत सरकार की ओर से काम कर चुके हैं. • उन्होंने नई दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) से अर्थशास्त्र में एमफिल किया है.


36 views0 comments

Recent Posts

See All
bottom of page