top of page

IT पर लेख

आईटी के भविष्य को नए आयाम प्रदान करेगी 'मेश नेटवर्किंग'

(देवांशु दत्ता)

(साभार बिजनस स्टैन्डर्ड )


इंटरनेट- ऑफ- थिंग्स (आईओटी) से लैस फ्रिज, माइक्रोवेव, एसी, एक्सर-साइकिल, सुरक्षा प्रदान करने वाले दरवाजे के ताले, वेबकैम आदि जैसे स्मार्ट उपकरणों की बहुलता के मालिक होने की कल्पना कीजिए। हम में से कई लोग पहले से ही इसके कुछ प्रकार के साथ रह रहे हैं। शायद आपके पड़ोसियों की भी स्मार्ट उपकरणों में इसी प्रकार की पैठ हो। कई लोगों के पास किसी न किसी प्रकार के तार युक्त ब्रॉडबैंड कनेक्शन के साथ-साथ 4जी या बेहतर स्मार्टफोन भी हो सकते हैं। क्या

होगा यदि वे सभी उपकरण एक-दूसरे के साथ प्रत्यक्ष संवाद करें? यह है मेश (संजाल) नेटवर्क-एक ऐसा स्थानीय नेटवर्क, जहां स्मार्ट उपकरण एक-दूसरे से प्रत्यक्ष जुड़ते हैं। कोई मेश ब्लूटूथ, पारंपरिक वाई-फाई, यहां तक ​​कि 2जी, लैंडलाइन या फाइबर के संयोजन पर चल सकता है।


एक मेश किसी 'सामान्य' हब-स्पोक (एचऐंडएस) नेटवर्क से काफी अलग होता है। एचऐंडएस में प्रत्येक स्मार्ट उपकरण राउटर से जुड़ता है। यह एक ऐसा हब है, जो स्पोक के बीच बातचीत को 'नियंत्रित' करता है। एचऐंडएस की तुलना में मेश टोपोलॉजी के कई अहम फायदे होते हैं।


मेश नेटवर्क स्वयं खोज करने वाले होते हैं। यदि कोई नया स्मार्ट उपकरण चालू किया जाता है, तो इसे स्वचालित रूप से किसी नोड के रूप में जोड़ा जा सकता है। वे स्व-उपचार करने वाले होते हैं। यदि कोई नोड बंद हो जाता है, तो यह मेश काम करना जारी रखता है, क्योंकि शेष नोड अब भी एक-दूसरे से जुड़े हुए होते हैं और डेटा संचारित करते रहते हैं। मेश आंशिक भी हो सकते हैं, जहां प्रत्येक नोड कुछ अन्य नोड से जुड़ता है, लेकिन सभी नोड के साथ प्रत्यक्ष रूप से नहीं जुड़ता। पूर्ण मेश भी होते हैं, जहां प्रत्येक नोड प्रत्यक्ष रूप से हर दूसरे नोड से जुड़ता है।


खास बात यह है कि मेश इंटरनेट की आवश्यकता के बिना ही डेटा संचारित करने के लिए निकट या लंबी दूरी दोनों पर ही कार्य करते हैं। मेरा लैपटॉप (नोड 1) मेरे पड़ोसी के सेलफोन (नोड 2) से जुड़ सकता है, जो इसी क्रम में उसके पड़ोसी की कार (नोड 3) से जुड़ जाता है, जो सड़क से 100 मीटर दूर एक सेलफोन (नोड 4) से जुड़ जाती है।


ऐसे 'मल्टी-हॉप' इंटरनेट के बिना भी लंबी दूरी तक डेटा ट्रांसफर कर सकते हैं। तूफानों और भूकंपों के बाद आपदा-राहत में यह बहुत उपयोगी साबित हुआ है। कश्मीर, ईरान और हॉन्गकॉन्ग में कार्यकर्ताओं द्वारा ब्लूटूथ-से लैस फोन से जुडऩे वाली मेश का उपयोग विरोध प्रदर्शन स्थलों से डेटा प्राप्त करने के लिए किया जा चुका है, भले ही अधिकारियों ने नेट बंद कर दिया हो या सजा देने के इरादे से इसकी निगरानी कर रहे हों। कम प्रचंडता वाले इस्तेमाल के मामलों में मेश कक्षाओं में उपयोगी रहता है, जहां समर्पित नेट कनेक्शन के बिना ही हर कोई एक-दूसरे से चैट कर सकता है। यह पहाड़ की चोटी जैसे भौतिक रूप से चुनौतीपूर्ण स्थानों में उपयोगी रहता है, जहां निकटतम मोबाइल सिग्नल को ढलान पर लंबा रास्ता तय करना पड़ सकता है, लेकिन मेश नेटवर्क एक-दूसरे से जुड़े सेलफोनों का उपयोग करते हुए शीर्ष तक पहुंच सकता है। गुब्बारों से लटकाए गए मेश राउटर के प्रयोगों ने भी ऐसी परिस्थितियों में सफलतापूर्वक नेटवर्क निर्मित किया है।


मेश राउटर का हार्डवेयर अत्यधिक महंगा नहीं होता है और यह तेजी से सस्ता होने की संभावना है, क्योंकि इसका उपयोग अधिक सर्वव्यापक हो रहा है। सॉफ्टवेयर और डेटा-रूटिंग एल्गोरिदम भी बेहतर हो रहे हैं।


तो दिक्कत कहां है? नई तकनीक हमेशा उपयोगकर्ताओं, विक्रेताओं और नीति-निर्माताओं के लिए इससे निपटने के वास्ते नए मसले पैदा करती है। एक प्रश्न चिह्न तो गोपनीयता है। मेश नेटवर्क सुरक्षा चुनौतियों के नए आयाम प्रस्तुत करता है। वर्तमान मेश नेटवर्किंग प्रोटोकॉल में डेटा लीक करने वाले सभी प्रकार के छिद्र हो सकते हैं। दूसरा, यदि मेरा सेलफोन या मेरी कार मेरी पड़ोसन के ब्रॉडबैंड कनेक्शन का उपयोग करती है, तो वह भुगतान की मांग कर सकती है या पूरी तरह से असहज महसूस कर सकती है।


तीसरा, संभावित रूप से विचित्र कानूनी निहितार्थ हैं। 3जी से पहले के दिनों में मैं गोवा के एक गांव में रहता था, जहां तार वाले कनेक्शन के साथ एक इंटरनेट कैफे था, जिसका उपयोग कई स्थानीय लोगों द्वारा किया जाता था। वहां एक बेवकूफ नियमित रूप से पोर्न देखता था, जिसका मतलब था कि मशीनें मैलवेयर से भरी हुई थीं और ब्राउजर का डिफॉल्ट वेबपेज चौंकाने वाला था। किसी मेश में अगर कोई नोड पोर्न का प्रसारण कर रहा हो या ड्रग्स का कारोबार कर रहा हो, तो अन्य नोड संबद्ध डेटा को आगे और पीछे भेज रहे होते हैं।


एमेजॉन का साइडवॉक कार्यक्रम 8 जून को पूरे अमेरिका में इको स्पीकर और रिंग सुरक्षा कैमरों को जोड़ते हुए एक विशाल मेश नेटवर्क तैयार कर रहा है। हालांकि यह अधिक कनेक्टिविटी और उपकरणों की अधिक पैठ का एक तार्किक विस्तार है, लेकिन एमेजॉन ने साइडवॉक पर विवादास्पद रूप से बाई डिफॉल्ट सहमति करा दी है। यानी उपयोगकर्ताओं को मेश से बाहर रहने के लिए जुडऩे से इनकार करना होगा। हालांकि कंपनी यह वादा करती है कि डेटा सुरक्षित रहेगा, लेकिन यह उस आश्वासन की बड़े स्तर पर अग्नि परीक्षा होगी। अगर यह काम करता है, तो एमेजॉन एक बड़ी आईएसपी बन जाएगी और साइडवॉक मेश नए यूज-केस की एक विस्तृत शृंखला पैदा कर सकता है।

41 views0 comments

Recent Posts

See All
bottom of page